How do SD cards store data? मेमोरी कार्ड की पूरी जानकारी |

How_do_SD_cards_store_data
 
आज की इस पोस्ट  मैं हम मेमोरी कार्ड  के बारे में जानेंगे मेमोरी कार्ड काम कैसे करता (How do SD cards store data) इसके अंदर ऐसा क्या होता है जिसके कारण यह डाटा स्टोर कर पाता है हम सभी जानते हैं कि मेमोरी कार्ड एक बेसिकली एक चीप होती है.
और हम सभी जानते हैं कि कोई भी इलेक्ट्रिक डिवाइस को चलने के लिए या काम करने के लिए एक कांस्टेंट इलेक्ट्रिसिटी या करंट की आवश्यकता होती है पर मेमोरी कार्ड में ऐसा क्या होता है जिसके कारण इसे  electric device से हटाने पर भी इसमें   डाटा डिलीट नहीं होता आज की इस पोस्ट में हम memory card के इन्हीं पहलुओं पर चर्चा करेंगे.



     हम सभी जानते हैं कि मेमोरी कार्ड या फ्लैश ड्राइव या पेन ड्राइव डाटा स्टोर करने के काम में आते हैं पर क्या आप यह जानते हैं कि यह सभी डिवाइस किस प्रकार का डाटा स्टोर करते हैं बात करें कंप्यूटर की तो कंप्यूटर बायनरी language पर कार्य करता है कहने का मतलब यह है कि बायनरी यानेकी 0 और  1 पर कार्य करता है यहां 0 का मतलब ऑफ मतलब बंद और 1 का मतलब चालू यानी कि ऑन होता है.


    What's Inside in Memory Card


     memory card एक चीप होती है जिसके अंदर बहुत सारे ट्रांजिस्टर लगे होते हैं मेमोरी कार्ड में जितनी ज्यादा ट्रांजिस्टर होंगे उतनी ही मेमोरी होगी यानी कि हर एक ट्रांजिस्टर एक स्विच होता है जिसके अंदर बाइनरी नंबर्स 1 या 0 होते हैं यह ट्रांजिस्टर  floating Gate transistors होते हैं.

     चलिए अनुमान लगाते हैं की 2  GB की मेमोरी कार्ड में कितने ट्रांसिस्टर्स होते हैं हम सभी  जानते हैं कि यहां पर 1 bit data (डाटा ) स्टोर करने के लिए हमें एक ट्रांजिस्टर की आवश्यकता होगी.
     (हम जानते हैं कि..)

    What is equals to 1 byte

    8 bits           =      1 byte
    1000 bytes =  1 Kilobit
    1000 KB      =        1 MB
    1000 MB     =         1 GB
     .................................................

    2GB = 16,000,000,000 bits

    यानी कि एक छोटी सी 2 जीबी की मेमोरी कार्ड में  लगभग 16,000,000,000  floating Gate ट्रांजिस्टर लगे होते हैं.


    Floating transistor  क्या है


     ट्रांजिस्टर मुख्यतः दो प्रकार के होते हैं PNP transistor और NPN transistor और यहां पर फ्लोटिंग गेट ट्रांसिस्टर भी एक ट्रांजिस्टर का ही प्रकार है बस इस ट्रांजिस्टर में gate float है इसमें  गेट के ऊपर कुछ डाटा सेव हो जाता है. 

    कहने का मतलब है कुछ इलेक्ट्रोल्स रह जाते हैं जिससे उसे  electronic device से अलग करने पर भी उसमें डाटा स्टोर रहता है.

    Delete data from sd card?


     हमे एसडी कार्ड में से कुछ भी डिलीट  करना होता है तो हम हमारे मोबाइल में उस डाटा को सिलेक्ट डिलीट कर देते हैं क्या आपको पता है की एक्चुअल में हम उस डांटा को डिलीट करके कहां भेज रहे हैं.
     यदि आपको यह जानना है तो अगला  पॉइंट जरूर पढ़ें|

    How_do_SD_cards_store_data_in_hindi

    what happen when we data delete?

     जब हम SD कार्ड से डाटा डिलीट करते हैं तो अभी हमने ऊपर पड़ा है कि data ,binary language 0  या 1 के form मे floating gate ट्रांजिस्टर में  होता है हमारे डिलीट प्रेस करते हैं पोस्ट ट्रांजिस्टर में नेगेटिव वोल्टता उत्पन्न होती है जिसके कारण उस gate  से इलेक्ट्रॉन निकल जाते हैं और डाटा डिलीट  हो जाता है.

    See Also :- HDD vs SSD

    Conclusion


     इस पोस्ट में दी गई सभी जानकारी कुछ ज्ञानवर्धक किताबो तथा इंटरनेट से ली गई है  उम्मीद है की आपको यह जानकारी पसंद आई होगी.
    यदि आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो अपने अन्य दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें.

    Tags :- How do SD cards store data? in hindi, inside sd card, compute padta.




    कोई टिप्पणी नहीं:

    Blogger द्वारा संचालित.